Pratha Pratigya

PM Kisan Yojana: जानिए किस दिन आ सकती है 12वीं किस्त, इन किसानों के अटक सकते हैं पैसे

PM Kisan Samman Nidhi Yojana: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की 11वीं किस्त मिलने के बाद से देश भर में कई किसान 12वीं किस्त के पैसों का इंतजार कर रहे हैं। उनका ये इंतजार जल्द ही खत्म हो सकता है। भारत सरकार जल्द ही किसानों के खाते में 12वीं किस्त के पैसों को ट्रांसफर कर सकती है। देश में किसानों की आय में वृद्धि करने और उनके भविष्य को सुरक्षित करने के लिए केंद्र सरकार कई योजनाओं का संचालन कर रही है। इसी सिलसिले में भारत सरकार ने साल 2018 में एक बेहद ही महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत की थी। इस स्कीम का नाम प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना है। योजना के अंतर्गत हर साल किसानों के खाते में तीन किस्त के रूप में दो-दो हजार रुपये की आर्थिक सहायता दी जाती है। इन पैसों के जरिए किसान खेती से जुड़े कई जरूरी कामों को कर सकते हैं। इसी कड़ी में आइए जानते हैं केंद्र सरकार कब तक किसानों के खाते में 12वीं किस्त के पैसों को जारी कर सकती है। 

भारत सरकार ने अब तक किसानों के खाते में कुल 11 किस्त को ट्रांसफर कर चुकी है। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो सरकार अक्तूबर के किसी भी महीने में 12वीं किस्त के पैसों को ट्रांसफर कर सकती है। हालांकि, सरकार ने किस्त के पैसों को ट्रांसफर करने की तारीख को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक एलान नहीं किया है। 

वहीं जिन किसानों ने अब तक प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में अपनी ई-केवाईसी नहीं कराई है। उनके 12वीं किस्त के पैसे अटक सकते हैं। केंद्र सरकार ने ई-केवाईसी की अंतिम तारीख 31 अगस्त, 2022 तय की थी

हीं पोर्टल पर ओटीपी बेस्ड ई-केवाईसी अभी भी उपलब्ध है। वहीं जिन किसानों ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में रजिस्ट्रेशन के समय गलत जानकारी दर्ज की थी। उनके किस्त के पैसे भी अटक सकते हैं। 

किस्त के पैसे ट्रांसफर होने के बाद आप पीएम किसान पोर्टल https://pmkisan.gov.in/ पर विजिट करके आसानी से अपने जारी हुए पैसों के स्टेटस को चेक कर सकते हैं। 

The post पीएम फसल बीमा योजना: सिर्फ धान की फसल के नुकसान का मिलेगा मुआवजा, कृषि विभाग ने शुरू की कवायद appeared first on Pratha Pratigya.

The post पीएम फसल बीमा योजना: सिर्फ धान की फसल के नुकसान का मिलेगा मुआवजा, कृषि विभाग ने शुरू की कवायद appeared first on Pratha Pratigya.

By

170 thoughts on “पीएम फसल बीमा योजना: सिर्फ धान की फसल के नुकसान का मिलेगा मुआवजा, कृषि विभाग ने शुरू की कवायद”
  1. Portable toilets are self-contained, mobile outhouses that are used as temporary restrooms. They are often seen at public events or construction sites, camping, where there is a need for extra restrooms but no permanent facilities. Portable toilets can either be connected to the main sewer line or they can be completely self-contained units that collect waste in a holding tank.

Leave a Reply

Elon Musk paid $44 Billion Dollar to Takeover Twitter… Chelsea ready to send Gabriel Slonina away on-loan👇👇 India Won by 4 Wickets