Pratha Pratigya

आयांश हॉस्पिटल में ऑपरेशन के दौरान प्रसूता की मौत

परिजनों ने लगाया मौत का आरोप काटा बवाल मौके पर एस डी एम,क्षेत्राधिकारी पहुंचकर परिजनों को कार्रवाई का दिया आश्वासन

सी एम ओ ने किया तत्काल प्रभाव से अस्पताल का लाइसेंस निलंबित जांच के लिए टीम की गठित
संचालक सहित पांच पर मुकदमा दर्ज

 

रुद्रपुर देवरिया । रूद्रपुर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम रामलक्षन चौराहा के समीप लक्ष्मीपुर रनिहवा मोड़ पर शनिवार की रात्रि आयांश हॉस्पिटल में ऑपरेशन के दौरान एक महिला की मौत हो गई जहां आनन-फानन में अस्पताल कर्मियों ने उसे गोरखपुर रेफर कर दिया बताया जाता है कि प्रसूता की मौत गोरखपुर जाने से पहले यही हो गया था यह सुनकर परिजन भड़क गए और रविवार की सुबह अस्पताल पर जमकर हंगामा किया जहां अस्पताल कर्मियों ने ताला बंद कर फरार हो गए जिसमें आधा दर्जन मरीज अन्दर फसे रहे
जिसकी सूचना सुनकर एस डी एम ध्रुव शुक्ला क्षेत्राधिकारी जिलाजीत सिंह मुख्य चिकित्सा अधिकारी राजेश झा थाना प्रभारी उपेंद्र मिश्रा मौके पर पहुंचकर परिजनों को समझाया जहां काफी मान मनोब्वल के बाद कार्रवाई के आश्वासन पर परिजन माने मालूम हो कि सूरजपुर गांव की रवि निषाद की पुत्री निशा उम्र 22 वर्ष की शादी गोरखपुर जनपद के नदुआज्ञान पार मैं सोनू के साथ हुई थी जहां डिलीवरी होने के लिए निशा अपने घर सूरजपुर आई थी शनिवार को निशा के प्रसव पीड़ा को देखते हुए परिजन उसे गौरी बाजार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए जहां चिकित्सकों ने नार्मल डिलेवरी मे असर्मथता जताते हुए जिला अस्पताल ले जाने की बात कही जहां आशा कार्यकर्ती के कहने पर परिजन राम लक्षन लक्ष्मीपुर स्थित आंयाश हॉस्पिटल में भर्ती किया
परिजनो के अनुसार शनिवार की रात्रि निशा का ऑपरेशन हुआ जहां बच्चा जन्म के बाद जच्चा की मौत हो गई जहां अस्पताल कर्मियों ने उसे गोरखपुर रेफर कर दिया यह सुनकर गांव वाले आक्रोशित हो गए जहां रविवार की सुबह मृतक निशा के शव को अस्पताल के गेट पर रखकर हंगामा कर दिया और डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाने लगे
सुचना मिलते ही एस डी एम ध्रुव शुक्ला क्षेत्रधिकारी जिला जीत सिंह थाना प्रभारी उपेंद्र मिश्रा मौके पर पहुंचे उन्होंने तत्काल को सूचना सीएमओ को दी
सी एम ओ राजेश झा ने अस्पताल में वन्द मरीजों को बाहर निकलवाया जिसमें 4 मरीज को गौरी बाजार और दो मरीज को रुद्रपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया कराते हुए अस्पताल को सील कर दिया

आयांश हॉस्पिटल का तत्काल प्रभाव से लाइसेंस निरस्त जांच के लिए टीम गठित

सीएमओ राजेश झा ने कहा कि आयांश अस्पताल के लापरवाही बरतने पर तत्काल प्रभाव से हॉस्पिटल का लाइसेंस निलंबित कर दिया गया तथा जांच के लिए एक कमेटी गठित की गई है एक सप्ताह की रिपोर्ट अंदर आने पर कार्रवाई की जाएगी।

विभागीय मिलीभगत से बिना डिग्री के कुकुरमुत्ते की तरह खुल रहे हैं अस्पताल

आयांश हॉस्पिटल में मौत जनपद में कोई नई बात नहीं है जनपद में कुकुरमुत्ते की तरह बिना डिग्री के अस्पताल खुल रहे हैं जहां आए दिन मौत होने से हंगामा हो होता है जहां विभागीय जांच मे कोरम पूरा किया जाता है
लोगों का कहना है कि ऐसे अस्पतालों की जांच कर उनकी मान्यता रद्द कर उस पर कार्रवाई की जाए।

Leave a Reply

Elon Musk paid $44 Billion Dollar to Takeover Twitter… Chelsea ready to send Gabriel Slonina away on-loan👇👇 India Won by 4 Wickets