Pratha Pratigya

छ, ग कोरबा 17अक्टूबर को रोजगार और पुनर्वास की मांग पर कलेक्ट्रेट महाघेराव के लिए भू विस्थापित किसान हुए

छत्तीसगढ़ किसान सभा और भू विस्थापित रोजगार एकता संघ ने बरसों पुराने भूमि अधिग्रहण के बदले लंबित रोजगार प्रकरण,मुआवजा, पूर्व में अधिग्रहित जमीन वापसी, प्रभावित गांव के बेरोजगारों को खदान में काम देने,महिलाओं को स्वरोजगार, पुनर्वास गांव में बसे भू विस्थापितों को काबिज भूमि का पट्टा देने के साथ 20 सूत्रीय मांगो को लेकर 17 अक्टूबर को कलेक्ट्रेट कार्यालय का महाघेराव की घोषणा की है। जिला प्रशासन और एसईसीएल के आश्वासन से थके भूविस्थापितों ने किसान सभा के नेतृत्व में अब आर-पार की लड़ाई लड़ने का मन बना लिया है। आंदोलन को सफल बनाने की तैयारी को लेकर गांव गांव में माईक प्रचार, पोस्टर चपकाने के साथ घर घर पर्चे बांटे गये हैं।
17अक्टूबर को कलेक्ट्रेट कार्यालय के महाघेराव को सफल बनाने के लिए 350 दिनों से चल रहे धरना स्थल में भू विस्थापितों की बैठक हुई और आंदोलन को सफल बनाने की रणनीति भी तैयार की गई। भू विस्थापित रोजगार एकता संघ के अध्यक्ष रेशम यादव,दामोदर श्याम किसान सभा के जिलाध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर,जय कौशिक ने आंदोलन को सफल बनाने की अपील की है।
कलेक्ट्रेट घेराव आंदोलन को भू विस्थापितों के साथ आम जनता का भी व्यापक जनसमर्थन मिल रहा है।

किसान सभा के जिला सचिव प्रशांत झा ने कहा कि 40-50 वर्ष पहले कोयला उत्खनन के लिए किसानों की हजारों एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया था, लेकिन इसके बाद भी किसी सरकार ने, जिला प्रशासन और खुद एसईसीएल ने विस्थापित परिवारों की कभी सुध नहीं ली। आज भी हजारों भूविस्थापित किसान जमीन के बदले रोजगार और बसावट के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस क्षेत्र में जिला प्रशासन की मदद से एसईसीएल ने अपने मुनाफे का महल किसानों और ग्रामीणों की लाश पर खड़ा किया है। किसान सभा इस बर्बादी के खिलाफ भूविस्थापितों के चल रहे संघर्ष में हर पल उनके साथ खड़ी है।
किसान सभा के अध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर, जय कौशिक आदि ने कहा कि पुराने लंबित रोजगार, बसावट, पुनर्वास गांव में पट्टा, किसानों की जमीन वापसी एवं अन्य समस्याओं को लेकर एसईसीएल गंभीर नहीं है और उनके साथ धोखाधड़ी कर रही है। इसलिए किसान सभा और भू विस्थापित संगठनों को मिलकर संघर्ष तेज करना होगा, ताकि सरकार और एसईसीएल की नीतियों के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लड़ी जा सके।
प्रचार के साथ बड़ी संख्या में महिलाओं जुड़ रही हैं। किसान सभा के जिलाध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर ने कहा कि घेराव में 40 से अधिक प्रभावित गांव के भू विस्थापित किसान शामिल होंगे।

One thought on “कैलेक्ट्रेड महागेराव आज”

Leave a Reply

Elon Musk paid $44 Billion Dollar to Takeover Twitter… Chelsea ready to send Gabriel Slonina away on-loan👇👇 India Won by 4 Wickets