August 15, 2022

Pratha Pratigya

लिखेंगे हम, पढ़ेंगे आप

परिवार नियोजन केवल महिलाओं की नहीं है जिम्मेदारी, पुरुष भी निभाएं जिम्मेदारी

1 min read

प्रथा प्रतिज्ञा

न्यूज़ रिपोर्ट राकेश कुमार

परिवार नियोजन केवल महिलाओं की नहीं है जिम्मेदारी, पुरुष भी निभाएं जिम्मेदारी

रायबरेली।परिवार नियोजन सेवाओं को सही मायने में धरातल पर उतारने और समुदाय को छोटे परिवार के बड़े फायदे की अहमियत समझाने की हरसम्भव कोशिश सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा अनवरत की जा रही है। यह तभी फलीभूत हो सकता है जब पुरुष भी खुले मन से परिवार नियोजन साधनों को अपनाने को आगे आयें और उस मानसिकता को तिलांजलि दे दें कि यह सिर्फ और सिर्फ महिलाओं की जिम्मेदारी है। इसमें जो सबसे बड़ी दिक्कत सामने आ रही है वह उस गलत अवधारणा का परिणाम है कि पुरुष नसबंदी से शारीरिक कमजोरी आती है। इस भ्रान्ति को मन से निकालकर यह जानना बहुत जरूरी है कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरुष नसबंदी अत्यधिक सरल और सुरक्षित है। इसलिए दो बच्चों के जन्म में पर्याप्त अंतर रखने के लिए और जब तक बच्चा न चाहें तब तक पुरुष अस्थायी साधन कंडोम को अपना सकते हैं। वहीँ परिवार पूरा होने पर परिवार नियोजन के स्थायी साधन नसबंदी को भी अपनाकर अपनी अहम जिम्मेदारी निभा सकते हैं।
परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डा. ए के चौधरी बताते हैं कि पुरुष नसबंदी चंद मिनट में होने वाली आसान शल्य क्रिया है। यह 99.5 फीसदी सफल है। इससे यौन क्षमता पर कोई प्रतिकूल असर नहीं पड़ता है। उनका कहना है कि इस तरह यदि पति-पत्नी में किसी एक को नसबंदी की सेवा अपनाने के बारे में तय करना है तो उन्हें यह जानना जरूरी है कि महिला नसबंदी की अपेक्षा पुरुष नसबंदी बेहद आसान है और जटिलता की गुंजाइश भी कम है। पुरुष नसबंदी होने के कम से कम तीन महीने तक परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों का प्रयोग करना चाहिए, जब तक शुक्राणु पूरे प्रजनन तंत्र से खत्म न हो जाएं। नसबंदी के तीन महीने के बाद वीर्य की जांच करानी चाहिए। जांच में शुक्राणु न पाए जाने की दशा में ही नसबंदी को सफल माना जाता है। नसबंदी की सेवा अपनाने से पहले चिकित्सक की सलाह भी जरूरी होती है ।
नोडल अधिकारी ने बताया कि जिले में वित्तीय वर्ष 2019-20 में 40 पुरुषों ने नसबंदी करवाई । 2020-21 में 22 पुरुषों ने नसबंदी करवाई वहीं वर्ष 2021-22 में 24 पुरुषों ने नसबंदी करवाई है । नसबंदी के आंकड़ों में कमी आने का मुख्य कारण कोरोना महामारी है | जिसके कारण परिवार नियोजन सेवाएं कुछ समय के लिए बाधित हुई थीं |
डॉ ए के चौधरी बताते हैं कि जिला मिशन परिवार विकास जनपद में शामिल है। इस जिले में पुरुष नसबंदी करवाने पर लाभार्थी को तीन हजार रुपये उसके खाते में दिये जाते हैं । पुरुष नसबंदी के लिए चार योग्यताएं प्रमुख हैं- पुरुष विवाहित होना चाहिए, उसकी आयु 60 वर्ष या उससे कम हो और दंपति के पास कम से कम एक बच्चा हो जिसकी उम्र एक वर्ष से अधिक हो। पति या पत्नी में से किसी एक की ही नसबंदी होती है। गैर सरकारी व्यक्ति के अलावा अगर आशा, एएनएम और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी पुरुष नसबंदी के लिए प्रेरक की भूमिका निभाती हैं तो उन्हें भी 400 रुपये देने का प्रावधान है ।

See also  ससुर खदेरी नदी को पुनर्जीवित करने के लिए चलाए जा रहे अभियान में आज बुधवार को भिटौरा ब्लाक प्रमुख अमित तिवारी ने प्रधानों संग किया श्रमदान

परिवार नियोजन एवं लॉजिस्टिक प्रबन्धक हिमांशु श्रीवास्तव बताते हैं कि नसबंदी के विफल होने पर 60,000 रुपए की धनराशि दी जाती है। नसबंदी के बाद सात दिनों के अंदर मृत्यु हो जाने पर चार लाख रुपए की धनराशि दी जाती है । नसबंदी के 8 से 30 दिन के अंदर मृत्यु हो जाने पर एक लाख रुपए की धनराशि दिये जाने का प्रावधान है। नसबंदी के बाद 60 दिनों के अंदर जटिलता होने पर इलाज के लिए 50,000 रुपए की धनराशि दी जाती है ।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.